भारत में पशुओं की हीन दशा के कारण

क्या आपकों पता है भारत में पशुओं की हीन दशा के कारण क्या है? हम आपकों बात दे भारत में कई ऐसे पशुओं की संख्या उपलब्ध है जो हीन दशा से जुझ रही है.

पशुओं की हीन दशा होना एक प्रकार का बीमारी है जो सभी जुगाली करने वाले पशुओं में होता है. यदि आप भारत में पशुओं की हीन दशा के कारण, बीमारी से बचाव के उपाय, आदि के बारे में नहीं जानते तो इस लेख को पूरा देखे.

यहां भारत में पशुओं की हीन दशा के कारण, समाधान, और इससे पशुओं पर अन्य सभी प्रभाव के बारे में जानकारी दी है.

भारत में पशुओं की हीन दशा के कारण

भारत में पशुओं की हीन दशा के कारण

भारत में पशुओं की हीन दशा होना एक बीमारी हैं जिसे गांव में पोकानी, पकावेदन, पाकनीमानता, वेदन आदि नामों से जाना जाता है.

इस बीमारी के कारण पशुओं में तेज बुखार, भूख न लगना, दूध उत्पादन में कमी होना, जीभ के नीचे तथा मसूड़ों पर छालों की पड़ना आदि प्रमुख लक्षण देखने को मिलते हैं.

मुख्य रूप से यह रोग सभी जुगाली करने वाले पशुओं में होता है. जब कभी यह रोग किसी पशु को होता है तो पशु की आंखे लाल हो जाती है तथा उनमें गाढ़े – पीले रंग का कीचड़ बहने लगता है.

साथ ही खून से मिले पतले दस्त तथा कभी – कभी नाक तथा योनि द्वार पर छाले भी पड़ जाते हैं. कुछ इसी तरह के एक प्रकार का विषाणुजनित (वायरस) रोग “रिंडरपेस्ट” होता है.

पशुओं की हीन दशा बीमारी से बचाव

यदि किसी पशु में इस रोग के लक्षण दिखाई देते है तो तुरंत पशु चिकित्सक से संपर्क करना चाहिए. वे आपकों इस बीमारी के बारे में सही जानकारी और समाधान बता सकते हैं. इसलिए यदि आपके पास कोई पशु है और उसमें इस बीमारी के लक्षण दिखाई देते है तो तुरंत ही अपने नजदीकी पशु चिकित्सक से संपर्क करें.

वैसे इस बीमारी से बचाव के लिए पशुओं का सामयिक टीकाकरण कराना अति आवश्यक होता है. इसलिए पशुओं में ऐसे कोई बीमारी हो उससे पहले आपकों टीकाकरण जरूर करवा देना चाहिए.

इस लेख में,

इस लेख में आपकों भारत में पशुओं की हीन दशा के कारण और इससे बचने के उपाय के बारे में जानकारी दी गई है. हम उम्मीद करते हैं आपकों यह लेख के बाद भारत में पशुओं की हीन दशा के कारण क्या होती है और इससे बचने के उपाय के बारे में मालूम चल गया होगा.

यदि आपकों अब भी इससे संबंधित कोई सवाल हैं तो आप हमें नीचे कॉमेंट कर पूछ सकते हैं. हमारी पूरी कोशिश होगी पशुओं की हीन दशा की इस बीमारी के बारे में आपकों सही जानकारी प्रदान कर सकें.

साथ ही यदि यह लेख से आपकों कुछ नया जानने और सीखने को मिला है तो कृपया इसे अपने दोस्तों और अन्य लोगों के साथ शेयर जरूर करें.

इन्हें भी देखें : अंडे देने वाले जानवरों के नाम

Written by Hindikul

आपका स्वागत है हिंदीकुल पर! चलिए अब हमारे साथ जुड़कर तकनीकी दुनिया की यात्रा पर निकलें और नए और रोचक तत्वों का अनुभव करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *