ट्रांसजेंडर क्या होता है और इसका मतलब

ट्रांसजेंडर किसे कहते हैं? , ट्रांसजेंडर का मतलब , इतिहास , Transgender in Hindi

क्या आपकों पता है ट्रांसजेंडर क्या होता है (Transgender Meaning in Hindi) और इसका मतलब क्या होता है?, शायद नहीं, तो इस लेख को पूरा पढ़े.

ट्रांसजेंडर हमारे समाज के अहम हिस्सा है. समाज में इन्हें विभिन्न नामों से पुकारा जाता है जैसे कि हिजडा, किन्नर, छक्का, आदि.

यह एक ऐसी टॉपिक है जिसके बारे में भारत और कई देशों में आज भी कई लोग पब्लिकली बात नहीं करना चाहते या फिर इस बारे में खुल कर बात नहीं करते हैं.

यदि आप ट्रांसजेंडर का अर्थ यानी ट्रांसजेंडर किसे कहते हैं को समझ नहीं पा रहे हैं तो आपकों इस लेख में पूरा जरूर पढ़ना चाहिए.

ट्रांसजेंडर क्या होता है? (Transgender Meaning in Hindi)

ट्रांसजेंडर क्या होता है

ट्रांसजेंडर उसे कहा जाता है जो पूरी तरह ना तो पुरुष होता है और ना ही महिला. ट्रांसजेंडर एक पेचीदा सा शब्द है जिसका अर्थ बहुत कुछ हो सकता है.

जैसे कि ट्रांस महिला और ट्रांस पुरुष दोनों ट्रांसजेंडर है लेकिन इनके पहचान अलग अलग तौर तरीकों से किया जाता है.

एक ट्रांस महिला वह होती है जो पुरुष के रूप में पैदा होता है लेकिन महिला के रूप में पहचाना जाता है इसलिए उसे महिला ट्रांसजेंडर कहा जाता है.

एक ट्रांस पुरुष वह होता है जो महिला के रूप में पैदा होता है लेकिन पुरुष के रूप में पहचाना जाता है इसलिए उसे पुरुष ट्रांसजेंडर कहा जाता है.

ट्रांसजेंडर इंसान पुरुष और महिला दोनों की तरफ आकर्षित हो सकता है. इनकी पहचान ज्यादातर लोग पहनावे और व्यवहार से करते हैं. साथ ही इनमें पुरुष और महिला दोनों के लक्षण होते हैं.

ट्रांसजेंडर शब्द का अर्थ मतलब (Meaning of Transgender in Hindi)

Transgender दो शब्दों से मिलकर बना है : Trans + Gender, यहां Trans का अर्थ ‘दूसरी अवस्‍था में’ होता है और Gender का अर्थ ‘लिंग’ होता है. तो इस तरह Transgender (ट्रांसजेंडर) शब्द का अर्थ ‘दूसरी अवस्‍था में लिंग’ होता है.

ट्रांसजेंडर वो इंसान होता है जिनका शरीर पैदा होने के व़क्त कुछ और था और जब वो बड़े होकर खुद को समझे तो एकदम उलट महसूस करने लगे.

ट्रांसजेंडर के इतिहास (History of Transgender in Hindi)

ट्रांसजेंडर लोग वर्तमान में ही नहीं बल्कि प्राचीन काल से दुनिया भर की संस्कृतियों में मौजूद हैं. ये आपकों विश्व भर के लगभग सभी देशों में देखे जा सकते हैं.

कहते हैं सन 1950 और 1960 के दशक में, ‘ट्रांसजेंडर’ शब्द और इसके अर्थ पहली बार दुनिया के सामने आया. यानी पहली बार “जेंडर” या “जेंडर आइडेंटिटी” की बात होने लगी.

तब सबसे बड़ी समस्या थी कि लिंग-भिन्न लोगों जिन्हें ट्रांसजेंडर बोला गया उन्हें वर्गीकृत कैसे किया जाए क्योंकि इनके पहचान अलग थी इसलिए वर्गीकृत करने के तरीके पर राय अलग अलग होती थी.

पुराने समय में ट्रांसजेंडर होने की बात किया जाए तो ऐसा माना जाता है कि आज से 4500 साल पहले के सुमेरियन और अक्कादियन ग्रंथ गाला के रूप में जाने जाने वाले पुजारियों को दस्तावेज करते हैं जो ट्रांसजेंडर हो सकते हैं.

कहते है प्राचीन ग्रीस, फ़्रीगिया और रोम में, गली पुजारी थे, जिनके बारे में कुछ विद्वानों का मानना ​​है कि वे ट्रांस महिलाएं थीं.

222 ईस्वी में, रोमन सम्राट एलागाबालस ने एक महिला कहलाना अधिक पसंद किया जबकि उन्हें भगवान या सम्राट के बराबर तौला जाता था.

आधुनिक समय में उन्हें एक ट्रांस फिगर के रूप में देखा गया है जिन्होंने सेक्स रिअसाइनमेंट सर्जरी की मांग की और कई स्थानों पर ट्रांस-फेमिनिन थर्ड जेंडर सामाजिक और आध्यात्मिक समुदायों का गठन किया है. इनमें भारतीय उपमहाद्वीप एंव थाइलैंड शामिल हैं.

आज के समय में, करीब आधा मिलियन हिजड़े (ट्रांसजेंडर) भारत में रहते हैं और आधे मिलियन हमारे पड़ोसी देश बांग्लादेश में रहते हैं. पहले के मुकाबले, आज कई देशों में ट्रांस लोगों को स्वीकार किया जाता है.

पूरी दुनिया में प्राचीन काल से आज तक, ट्रांसजेंडर इंसान हुआ करते थे और इसके बारे में कई जगहों पर एंव इतिहास के पन्नों में वर्णन किया गया है.

1990 और 2000 के दशक में, ट्रांसजेंडर डे ऑफ़ रिमेंबरेंस शुरू किया गया था, तब ट्रांस मार्च अधिक आम हो गए थे.

इसके वज़ह से, कुछ देशों में ट्रांस लोगों के अधिकारों को मान्यता देना शुरू कर दिया, जिनमें भारत और दक्षिणी अफ्रीका देश विशेषकर शामिल हैं.

लेकिन उसी समय, कई देश विशेषकर शेष अफ्रीका, मध्य एशिया और अरब में, ट्रांसफोबिया के कारण लोगों के अधिकारों को कम करने लगे.

ट्रांसजेंडर और अन्य शब्दों का मतलब (L, G, B, T, I, Q)

कई लोगों को आज भी L, G, B, T, I, Q में फर्क़ समझ नहीं आता, यह कौन लोग है और इनकी पहचाना क्या है? तो चलिए समझते हैं इसके बारे में.

L (लेस्बियन) : लेस्बियन उसे कहते हैं जब एक औरत को एक औरत से ही प्यार हो.

ऐसा माना जाता है कि किन्ही दो लेस्बियन पार्टनर्स में से एक पार्टनर का व्यक्तित्व आदमी जैसा होता है यानी वो पैंट-शर्ट पहनती होगी और छोटे बाल रखना पसंद करेंगी, जिसे ‘बुच’ कहा जाता है.

वही दूसरी पार्टनर की शख़्सियत औरत जैसी होती है यानी वो स्कर्ट-सूट-साड़ी पहनती होगी और लंबे बाल रखना पसंद करेंगी, जिसे ‘फेम’ कहा जाता है.

ऐसा जरूरी नहीं है कि सभी लेस्बियन में ऐसे ही शख्सियत होती है. आज के समय में ऐसे भी लेस्बियन पार्टनर्स होते हैं जो ऐसी शख्सियत से बिल्कुल परे हैं.

G (गे) : गे उसे कहते हैं जब एक आदमी को एक आदमी से ही प्यार हो.

आपने गे शब्द कभी न कभी जरूर सुना होगा. आजकल इनके ऊपर बॉलीवुड में फ़िल्म भी बन रही है, जो ऐसे कम्यूनिटी भी होते हैं के बारे में लोगों तक संदेश पहुंचना चाहते हैं.

B (बाईसेक्सुअल) : बाईसेक्सुअल उसे कहा जाता हैं जब मर्द या औरत को मर्द और औरत दोनों से ही प्यार हो.

यहां एक मर्द भी बाईसेक्सुअल हो सकता है और एक औरत भी. ये ऐसे शख्स होते हैं जो दो जेंडर से प्यार करते हैं. यदि कोई मर्द के रूप में है वो औरत और मर्द दोनों से प्यार करता है और वही यदि कोई औरत के रूप में वो मर्द और औरत दोनों से प्यार करता है.

T (ट्रांसजेंडर) : ट्रांसजेंडर ऐसे इंसान होते हैं जिनका शरीर पैदा होने के व़क्त कुछ और था और जब वो बड़े हुए और ख़ुद को समझा तो पाया उनका शरीर एकदम उलट महसूस करने लगे.

इसके बारे में आपने ऊपर जान चुके है.

I (इंटर-सेक्स) : इंटर-सेक्स उसे कहा जाता है जो पैदा होने के वक्त उनके निजी अंगों से ये साफ़ नहीं होता कि वो पुरुष हैं या औरत.

उस समय अच्छे से बताना डॉक्टर के लिए भी आसान नहीं होता इसलिए उसे जो सही लगता उसे बता कर बच्चे को बड़ा किया जाता है.

जब वो बड़ा हो जाता है तो उसे ख़ुद समझ आ जाता है कि उसका शरीर कैसा है और वो कैसा महसूस करता है.

Q (क्वीयर) : क्वीयर ऐसे इंसान को कहा जाता है जो अपनी पहचान तय न कर पाता हो कि वो आदमी, औरत या ‘ट्रांसजेंडर’ हैं या ‘लेस्बियन’, ‘गे’ और ‘बाईसेक्सुअल’.

यानी ऐसे इंसान जिसके मन में अपनी पहचान और शारीरिक चाहत को लेकर बहुत सवाल है और समझ नहीं पा रहा है कि वो ख़ुद को क्या पहचान दे.

किन्नर किसे कहते हैं?

किन्नर का मतलब होता है ऐसे इंसान जो न पूरी तरह से पुरुष है और न ही स्त्री . भारत में किन्नर को हिजड़ा, थर्ड जेंडर ट्रांसजेंडर भी बोला जाता है.

ट्रांसजेंडर का मतलब क्या होता है?

ट्रांसजेंडर का मतलब विपरित लिंग प्रदर्शित करने वाला इंसान होता है. यानी ऐसे इंसान जिनका लिंग जन्म के समय तय किए गए लिंग से मेल नहीं खाता. भारत में ट्रांसजेंडर को हिजड़ा, किन्नर, छक्का, थर्ड जेंडर भी बोला जाता है.

निष्कर्ष,

तो, दोस्तों इस लेख में आपने ट्रांसजेंडर क्या होता है (Transgender Meaning in Hindi) और इसका अर्थ एवं मतलब के साथ साथ इतिहास को भी समझा, जो ट्रांसजेंडर से जुड़ी जानकारियां थी.

हम उम्मीद करते हैं आपकों इस लेख में ट्रांसजेंडर से संबंधित सवालों का जवाब मिल गए होंगे. यदि आपने इस लेख को पढ़ कर अच्छा लगा है तो कृपया इसे अपने सोशल नेटवर्किंग साइटों पर शेयर जरूर करें.

साथ ही इससे संबंधित अन्य जानकारियां या कोई सवाल आपके पास है तो हमें नीचे कॉमेंट करे और अन्य लोगों को मदद करने में अपना योगदान दे.

इसे भी पढ़ें :

क्या आपको ये आर्टिकल पसंद आया ?

344 Points
Upvote

हिंदीकुल द्वारा लिखित

हिंदीकुल (Hindikul) एक प्रमुख शैक्षिक, सूचनात्मक और सलाह वेबसाइट है जो अन्य साइटों की तुलना में विश्वसनीय और सटीक लेख पाठकों तक पहुंचाती हैं.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *