विटामिन की खोज किसने की, कब और कैसे?

विटामिन की खोज किसने की , Vitamin Ki Khoj Kisne Ki , विटामिन की खोज किसने किया था ?

विटामिन का नाम सबने सुना है लेकिन विटामिन की खोज किसने की, कब और कैसे? (Vitamin Ki Khoj) के बारे में बहुत कम लोगों को मालूम है.

विटामिन (Vitamin) भोजन के एक ऐसी अवयव है जिनकी सभी जीवों को कुछ न कुछ मात्रा में आवश्यकता होती हैं. इसे शरीर द्वारा ख़ुद उत्पन्न नहीं किया जा सकता है बल्कि भोजन लेने से प्राप्त होता है जैसे कि फल, सब्जियां, दूध, और अन्य खाद्य पदार्थों.

हमारे शरीर को नियंत्रित और नियमित रूप से विटामिन मिलना आवश्यक होता है नहीं तो इसके कमी से हमें कई तरह के बीमारीयों का सामना करना पड़ सकता है.

भोजन के द्वारा मिलने वाले कुछ प्रमुख विटामिन हैं – विटामिन ए, विटामिन बी, विटामिन सी, विटामिन डी, विटामिन ई, विटामिन के, आदि.

आपने विटामिन क्या होते हैं यह तो समझ लिया लेकिन विटामिन की खोज किसने की थी? चलिए अब उनके बारे में जानते हैं जो बहुत कम लोगों को जानकारी हैं.

विटामिन की खोज किसने की? (Vitamin Ki Khoj)

विटामिन की खोज किसने की? (Vitamin Ki Khoj Kisne Ki)

विटामिन की खोज कासिमिर फंक के द्वारा की गई थी. उन्हें विटामिन का अन्वेषण और उसकी उपयोगिता को सिद्ध करने के कारण ही पूरी दुनिया में प्रसिद्धि मिली.

वे पोलैंड के जीव-रसायनज्ञ (Biochemist) थे. इन्होंने प्रथम विश्व युद्ध में ऐड्रैनेलिन यौगिक का व्यापारिक स्तर पर उत्पादन किया था, साथ ही मछली के तेल से व्यापारिक स्तर पर विटामिन निकालने की विधि निकाली थी.

डचमैन क्रिस्टियान ईजकमैन के एक लेख के अनुसार, जो लोग ब्राउन राइस खाते हैं , वे उन लोगों की तुलना में बेरी-बेरी के प्रति कम संवेदनशील होते हैं, जो केवल पूरी तरह से मिल्ड उत्पाद खाते हैं.

फंक ने अपने प्रयोगों में उन जिम्मेदार पदार्थ को अलग करने की कोशिश की, और वह सफल रहे. उन्होंने पाया पदार्थ में एक अमीन समूह था, जिसे आज “विटामिन” के नाम से जाना जाता है.

उनके इस खोज को विटामिन बी 3 ( नियासिन ) के नाम से जाना जाने लगा. वही उन्होंने इसे सोचा था कि यह विटामिन बी 1 (थायमिन) होगा.

आगे चल कर उन्होंने करीब चार अन्य विटामिनों के अस्तित्व का प्रस्ताव दिया. उन्होंने सन 1912 में विटामिन के ऊपर अपनी पुस्तक ‘द विटामिंस’ को प्रकाशित किया.

उनका मानना था कि कई बीमारियों को विटामिन द्वारा ठीक किया जा सकता है जैसे कि रिकेट्स , पेलाग्रा , सीलिएक रोग और स्कर्वी, आदि.

कासिमिर फंक (विटामिन के खोजकर्ता)

नामकासिमिर फंक
जन्म23 फरवरी, 1884, वारसॉ
मृत्यु19 नवंबर, 1967, अल्बानी, न्यूयॉर्क
राष्ट्रीयतापोलिश
सिटिज़नशिपपोलैंड, संयुक्त राज्य अमेरिका
शिक्षाबर्न विश्वविद्यालय , स्विट्ज़रलैंड
क्षेत्रजीव-रसायनज्ञ (Biochemist)
प्रसिद्धिविटामिन की खोज

विटामिन की खोज कब हुई?

विटामिन की खोज 1912 में एक पोलिश-अमेरिकी बायोकेमिस्ट कासिमिर फंक ने की थी.

विटामिन की खोज का इतिहास (History Of Vitamin in Hindi)

विभिन्न प्रकार के रोगों एवं बीमारीयों से बचने के लिए विटामिन की खोज मनुष्यों के लिए एक प्रमुख वैज्ञानिक उपलब्धि थी.

विटामिन की खोज कैसे हुई और इसका इतिहास :

1747 में, स्कॉटिश सर्जन जेम्स लिंड ने अपने प्रयोगों में पाया कि खट्टे खाद्य पदार्थों से स्कर्वी को रोकने में मदद मिली. उन्होंने पाया कि ऐसे बीमारी जिसमें कोलेजन ठीक से नहीं बनता है, जिससे घाव ठीक नहीं होता, मसूड़ों से खून बहता है, गंभीर दर्द होता है और मृत्यु हो जाती है, उसे रोकने में मदद मिली.

1753 में, लिंड ने स्कर्वी पर अपने प्रयोगों को प्रकाशित किया, जिसमें स्कर्वी से बचने के लिए नींबू और नीबू का उपयोग करने की सिफारिश की गई थी, जिसे ब्रिटिश रॉयल नेवी द्वारा अपनाया गया था.

20 वीं शताब्दी की शुरुआत में, रॉबर्ट फाल्कन स्कॉट के अंटार्कटिक अभियान के समय प्रचलित चिकित्सा सिद्धांत यह था कि स्कर्वी “दागी” डिब्बाबंद भोजन के कारण होता है.

19वीं शताब्दी की शुरुआत में, अभाव अध्ययन के उपयोग ने वैज्ञानिकों को कई विटामिनों को अलग करने और पहचानने की अनुमति दी.

1881 में, रूसी चिकित्सक निकोलाई आई. लुनिन ​​ने टार्टू विश्वविद्यालय में स्कर्वी के प्रभावों का अध्ययन किया. उन्होंने चूहों पर दूध के साथ प्रयोग किया और निष्कर्ष निकाला कि “दूध जैसे प्राकृतिक भोजन में इन ज्ञात प्रमुख अवयवों के अलावा जीवन के लिए आवश्यक अज्ञात पदार्थों की थोड़ी मात्रा भी होनी चाहिए”.

1905 में, कुछ इसी तरह का परिणाम एक डच मेडिकल जर्नल में प्रकाशित हुआ, लेकिन इसकी व्यापक रूप से रिपोर्ट नहीं की गई थी.

1884 में, चिकित्सक ताकाकी कानेहिरो ने देखा कि जिनके आहार में विभिन्न प्रकार की सब्जियां और मांस शामिल थे, शायद ही कभी बेरीबेरी से पीड़ित थे.

1897 में, क्रिस्टियान ईजकमैन ने प्रयोगों में पाया कि मुर्गियों को पॉलिश की गई किस्म के बजाय बिना पॉलिश किए चावल खिलाने से एक प्रकार के पोलीन्यूराइटिस को रोकने में मदद मिली जो बेरीबेरी के बराबर था.

1898 में, फ्रेडरिक हॉपकिंस ने माना कि कुछ खाद्य पदार्थों में प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, वसा आदि के अलावा “सहायक कारक” होते हैं जो मानव शरीर के कार्यों के लिए आवश्यक हैं.

1910 में, जापानी वैज्ञानिक सुज़ुकी द्वारा पहला विटामिन कॉम्प्लेक्स अलग किया गया. उन्होंने चावल की भूसी से सूक्ष्म पोषक तत्वों के पानी में घुलनशील परिसर को निकालने में सफल रहे. वह इसे एबेरिक एसिड बोले, लेकिन बाद में इसे ओरिज़ैनिन नाम दिया गया.

1912 में, पोलिश बायोकेमिस्ट कासिमिर फंक ने सूक्ष्म तत्वों के एक ही परिसर को अलग किया और इसका नाम “विटामिन” रखने का प्रस्ताव रखा. बाद में इसे विटामिन बी3 (नियासिन) के रूप में जाना जाने लगा. साथ ही इन्हें ‘विटामिन के जनक’ के रूप भी जाना जाने लगा.

विटामिन और उनके खोज किसने की?

विटामिन (Vitamins)खोजकर्ता
विटामिन Aएल्मर वी. मैकुलम और मार्गुराइट डेविस (1912-1914)
विटामिन Bएल्मर वी. मैकुलम (1915-1916)
विटामिन B1कैसिमिर फंक (1912)
विटामिन B2डी.टी. स्मिथ और ई.जी. हेंड्रिक (1926)
विटामिन B3 (नाइयासिन)काॅनरैड एलवेजम (1937)
विटामिन B9 (फोलिक एसिड)लुसी विल्स (1933)
विटामिन B6पाॅल जियोर्जी (1934)
विटामिन Cए. होइस्ट और टी. फ्रेलिच (1912)
विटामिन Dएडवर्ड मेलानबी (1922)
विटामिन Eहर्बर्ट इवांस और कैथरीन बिशप (1922)

पहला विटामिन किसने पाया?

पहला विटामिन जिसे फ्रेडरिक गोलैंड हॉपकिंस द्वारा सन 1913 में खोजा गया था उसका नाम ‘विटामिन ए’ था. उन्होंने अपने प्रयोगों में पाया कि दूध में कोई अज्ञात कारक हैं जो वसा, प्रोटीन या कार्बोहाइड्रेट नहीं है. बाद में इसे विटामिन ए के नाम से जाना जाने लगा.

विटामिन के जनक कौन है?

कासिमिर फंक को विटामिन का जनक कहा जाता है जिन्होंने पता लगाया कि खाद्य पदार्थ में विटामिन पाया जाता है जिसकी मदद से कई बीमारियां ठीक की जा सकती है.

कुल कितने विटामिन होते हैं?

कुल 13 आवश्यक विटामिन होते हैं जो कुछ इस प्रकार हैं – विटामिन ए, सी, डी, ई, के, और बी विटामिन (थियामिन, राइबोफ्लेविन, नियासिन, पैंटोथेनिक एसिड, बायोटिन, बी 6 , बी 12 और फोलेट.

विटामिन की खोज कब और किसने की थी?

विटामिन की खोज कासिमिर फंक ने 1912 में की थी इसलिए उन्हें विटामिन के खोजकर्ता माना जाता है.

निष्कर्ष,

जैसे कि इस लेख में आप जान चुके हैं विटामिन की खोज कैसे की और कब? (Vitamin Ki Khoj Kisne Ki) इसलिए हम उम्मीद करते हैं आपकों सभी चीज़े समझ में आ गई होगी.

यदि आपकों Vitamin की खोज के बारे में यह लेख पढ़ कर अच्छा लगा है तो कृपया इसे अन्य लोगों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करें.

साथ ही यदि कोई इस लेख से संबंधित आपके मन में कोई सवाल या सुझाव हैं तो आप हमें नीचे कॉमेंट कर पूछ सकते हैं.

अन्य खोजें :

क्या आपको ये आर्टिकल पसंद आया ?

346 Points
Upvote

हिंदीकुल द्वारा लिखित

हिंदीकुल (Hindikul) एक प्रमुख शैक्षिक, सूचनात्मक और सलाह वेबसाइट है जो अन्य साइटों की तुलना में विश्वसनीय और सटीक लेख पाठकों तक पहुंचाती हैं.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *